Tumhen Apna Banaane Ki Kasam – Anuradha, Kumar, Sadak – (तुम्हें अपना बनाने की कसम)

तुम्हें अपना बनाने की कसम खाई है, खाई है
तेरी आँखों में चाहत ही नज़र आई है, आई है
तुम्हें अपना बनाने…

मुहब्बत क्या है मैं सबको बता दूँगा/दूँगी
ज़माने को तेरे आगे झुका दूँगा/दूँगी
तेरी उल्फ़त मेरी जाना वो रंग लाई है, लाई है
तुम्हें अपना बनाने…

तसव्वुर बनके मैं ख़्वाबों में आऊँगी
तेरी पलकों तले जीवन बिताऊंगी
मेरे दिल में तेरी धड़कन सनम समाई है, समाई है
तुम्हें अपना बनाने…

तेरे होंठों से मैं शबनम चुराऊँगा
तेरे आँचल तले जीवन बिताऊँगा
मेरी नस-नस में तू बन के लहू समाई है, समाई है
तुम्हें अपना बनाने…

तेरी बाहों में हैं दोनों जहां मेरे
मैं कुछ भी तो नहीं दिलबर बिना तेरे
तुझे पा के ज़माने की ख़ुशी पाई है, पाई है
तुम्हें अपना बनाने…


Movie/Album: सड़क (1991)
Music By: नदीम -श्रवण
Lyrics By: समीर
Performed By: अनुराधा पौडवाल, कुमार सानू