Shekhar Rajviani – Aazmaale – (आज़माले)

आज़माले आज़माले आज ख़ुद को आज़माले
फिरता है कब से ये दिल संभाले
बोलिए लब पे रुके हैं तेरे सजदे में झुके हैं
पल पल बिखरे हैं कितने उजाले
क्या करुँ क्या सोचता है चैन दिल का ढूँढता है
अपनी किस्मत को जगाले बीच का परदा उठाले आज़माले

अपने गम से खेलता है, दर्द कितने झेलता है
सोचता तू और कुछ है, और कुछ तू बोलता है
अपने दिल को तू मना ले बीच का परदा उठाले
आज़माले…

कश्मकश को छोड़ दे तू, रुख हवा का मोड़ दे तू
खाली पैमाना है तेरा, हो सके तो तोड़ दे तू
इक नई महफिल सजाले बीच का परदा उठाले
आज़माले…


Movie/Album : टैक्सी न. नौ दो ग्यारह (2006)
Music By : विशाल शेखर
Lyrics By : देव कोहली
Performed By : शेखर रव्जियानी