Prem Ratan Dhan Payo – Palak Muchhal – (प्रेम रतन धन पायो)

सुख दुःख झूठे, धन भी झूठा 
झूठी मोह माया 
सच्चा मन का वो कोना जहाँ 
प्रेम रतन पाया, प्रेम रतन पाया 

सैय्याँ तू कमाल का, बातें भी कमाल की 
लागा रंग जो तेरा, हुई मैं कमाल की 
पायो रे पायो रे पायो रे…
प्रेम रतन धन पायो पायो 
प्रेम रतन धन पायो पायो 
रुत मिलन की लायो 
प्रेम रतन 
प्रेम रतन धन पायो मैंने 
प्रेम रतन धन पायो 

क्या मैं दिखा दूँ, या मैं छुपा लूँ 
जो धन है मन में
ये भी ना जानूँ, बजने लगी क्यों
सरगम सी तन में 
खुशियाँ है आँगन में 
चेहरे पे आये मेरी रंगतें गुलाल की
लागा रंग जो तेरा, हुई मैं कमाल की 
पायो रे पायो रे पायो रे…
प्रेम रतन धन पायो पायो 
प्रेम रतन धन पायो पायो
मन गगन पर छायो 
प्रेम रतन
प्रेम रतन धन पायो मैंने 
प्रेम रतन धन पायो 

मुझको थे घेरे जितने अँधेरे
हो गए दूर सभी
सब सपनों की, सब रिश्तों की
पा ली है कीमत भी
प्रेम को मैं समझी
किसी ने ना की मेरी, तूने जो संभाल की 
लागा रंग जो तेरा, हुई मैं कमाल की 
पायो रे पायो रे पायो रे…
प्रेम रतन धन पायो पायो 
प्रेम रतन धन पायो पायो
आज मन भर आयो 
प्रेम रतन 
प्रेम रतन धन पायो मैंने 
प्रेम रतन धन पायो


Movie/Album: प्रेम रतन धन पायो (2015)
Music By: हिमेश रेशमिया
Lyrics By: इरशाद क़ामिल
Performed By: पलक मुछाल