Pairon Mein Bandhan Hai – Mohabbatein – (पैरों में बंधन है)

पैरों में बंधन है, पायल ने मचाया शोर
सब दरवाज़े कर लो बंद, देखो आए, आए चोर
तोड़ दे सारे बंधन तू, मचने दे पायल का शोर
दिल के सब दरवाज़े खोल, देखो आए, आए चोर.
पैरों में बंधन है…

कहूँ में क्या, करूँ में क्या, शरम आ जाती है
ना यूँ तड़पा कि मेरी जां, निकलती जाती है
तू आशिक़ है, मेरा सच्चा, यकीं तो आने दे
तेरे दिल में अगर शक़ है, तो बस फिर जाने दे
इतनी जल्दी लाज का, घूँघट ना खोलूँगी
सोचूँगी फिर सोच के, कल परसों बोलूँगी
तू आज भी हाँ ना बोली, ओये कुड़िये
तेरी डोली ले ना जाए, कोई और
पैरों में बंधन है…

जिन्हें मिलना, है कुछ भी हो, अजी मिल जाते हैं
दिलों के फूल, तो पतझड़ में भी खिल जाते हैं
ज़माना दोस्तों, दिल को, दीवाना कहता है
दीवाना दिल, ज़माने को, दीवाना कहता है
ले में सैयाँ आ गयी, सारी दुनिया छोड़ के
तेरा बंधन बाँध लिए, सारे बंधन तोड़ के
एक दूजे से जुड़ जाएँ, आ हम दोनों उड़ जाएँ
जैसे संग पतंग और डोर
पैरों में बंधन है…


Movie/Album: मोहब्बतें (2000)
Music By: जतिन ललित
Lyrics By: आनंद बक्षी 
Performed By: श्वेता पंडित, सोनाली भटवडेकर, पृथा मजुमदार, उद्भव, मनोहर शेट्टी, ईशान