Nazar Ke Saamne, Jigar Ke Paas – Kumar Sanu, Anuradha Paudwal – (नज़र के सामने, जिगर के पास)

नज़र के सामने, जिगर के पास
कोई रहता है, वो हो तुम

बेताबी क्या होती है, पूछो मेरे दिल से
तन्हाँ-तन्हाँ लौटा हूँ, मैं तो भरी महफ़िल से
मर ना जाऊं कहीं, हो के तुमसे जुदा
नज़र के सामने, जिगर के पास…

तन्हाईं जीने ना दे, बेचैनी तड़पाये
तुमको मैं ना देखूं तो, दिल मेरा घबराये
अब मुझे छोड़ के, दूर जाना नहीं
नज़र के सामने, जिगर के पास…


Movie/Album: आशिकी (1990)

Music By: नदीम-श्रवण
Lyrics By: समीर 
Performed By: कुमार सानु, अनुराधा पौडवाल