Jayen To Jayen Kahan – Talat Mehmood – (जाएँ तो जाएँ कहाँ)

जाएँ तो जाएँ कहाँ
समझेगा, कौन यहाँ
दर्द भरे, दिल की ज़ुबां
जाएँ तो जाएँ कहाँ

मायूसियों का मजमा है जी में
क्या रह गया है इस ज़िन्दगी में
रुह में ग़म, दिल में धुआँ
जाएँ तो…

उनका भी ग़म है, अपना भी ग़म है
अब दिल के बचने की उम्मीद कम है
एक कश्ती, सौ तूफां

जाएँ तो…


Movie/Album : टैक्सी ड्राईवर (1954)
Music By : एस.डी.बर्मन
Lyrics By : साहिर लुधियानवी
Performed By : तलत महमूद