Dil Dhadke Aankh Mori – Suraiyya, Dard – (दिल धड़के आँख मोरी)

दिल धड़के आँख मोरी फड़के
चले जाना न देखो जी बिछड़ के
दिल धड़के…

कहीं बीते न दुःख में जवानी
कहीं सुन ले न दुनियाँ कहानी
कहीं बन जाऊँ मैं न दीवानी
दिल धड़के…

कहीं ठहरे न उल्फ़त का धारा
कहीं पा ले न कोई इशारा
कहीं टूटे न दिल क सहारा
दिल धड़के…

कहीं जाना न कर के बहाना
न बने दो दिलों का फ़साना
देखो नाज़ुक बहुत है ज़माना
दिल धड़के…


Movie/Album: दर्द (1947)
Music By: खैय्याम
Lyrics By: शकील बदायुनी
Performed By: सुरैय्या