Asli Naqli Chehra – Lata Mangeshkar, Asli Naqli – (असली नकली चेहरा)

लाख छुपाओ, छुप ना सकेगा, राज हो कितना गहरा
दिल की बात बता देता है, असली नकली चेहरा

फूल में खुशबू, दिल में चाहत, कभी न छुपने पायी है
आँख से झलकी बन कर सुर्खी जब जब आग दबायी है
जजबातों पर लग नहीं सकता ख़ामोशी का पहरा  
दिल की बात…

लोग तो दिल को खुश रखने को, क्या क्या ढोंग रचाते हैं
भेस बदल कर इस दुनिया में, बहरूपे बन जाते हैं
मन दर्पन में मुखड़ा देखो, उतरा रंग सुनहरा
दिल की बात…

अब ना हमको और बनाओ, हमने तो पहचान लिया
सागर से भी गहरे निकले, हमने तुमको जान लिया
जिसके मन में चोर छूपा हो, सामने कब वो ठहरा
दिल की बात…


Movie/Album: असली नकली (1962)
Music By: शंकर जयकिशन
Lyrics By: हसरत जयपुरी
Performed By: लता मंगेशकर