आना ज़रा, पास तो आछूने तो दे साँसें ज़राहोंठों से तू, होंठों तलेशहद भरा, रस टपकाआना ज़रा…बारिशें गुनगुनाएं तोख्वाहिशें जाग जाएँ तोइस पाजी दिल को कैसे समझाएंतू भी तो कभी समझ समझा ज़राआना ज़रा पास तो…रात भर सोयी भी नहींआज तो रोई भी नहींदिल की शैतानी अच्छी लगती हैतू भी …

मेरा एक सपना है, कि देखूं तुझे सपनों मेंतू माने ना माने, है तू ही मेरे अपनों मेंधड़कन सा चलता है, ये कैसा रिश्ता है [M]नींदों में हँसती हूँ, ख़्वाबों में उड़ती हूँ [F]अब तक किसी की चाहत मेरे लब तक थीतेरी नज़र ने दिल पे मेरे दस्तक दीजागी-सोयी, खोई …

ये दिल सुन रहा है, तेरे दिल की ज़ुबांऐ मेरे हमनशी, मैं वहाँ, तू जहाँमेरी सदा में बोले तू, ये कोई क्या जानेगीत में है, साज में है, तू ही तू, नगमा कहाँये दिल सुन रहा है…दर्द-ए-मोहब्बत के सिवा, मैं भी क्या, तू भी क्याये ज़मीं हम, आसमां हम, अब …

जाने दो नाहे पास आओ नाछुओ ना छुओ ना मुझे छुओ ना…छुओ ना देखो छुओ ना…जाने दो ना…प्यासे होंठों की जो कहानी हैपास आ के तुम्हें सुनानी हैये बातें मैं ना कर पाऊँगीपास ना आना मर जाऊंगीआओ ना आओ ना पासआओ ना आओ नादेखो आओ ना…दिल जैसे करवटें बदलता हैमेरा …

तिनका तिनका ज़रा ज़रा है रोशनी से जैसे भराहर दिल मैं अरमां होते तो हैंबस कोई समझे ज़रादिल पे एक नया सा नशा छा गयाखो रहा था जो ख्वाब वो लौट आ गयाये जो एहसास है जो करार हैक्या इसी का ही नाम प्यार हैपूछे दिल थम के ज़रातिनका तिनका ज़रा …

बाहों के दरमियाँ, दो प्यार मिल रहे हैजाने क्या बोले मन, डोले सुनके बदनधड़कन बनी ज़ुबां खुलते बंद होते, लबों की ये अनकहीमुझसे कह रही हैं के बढ़ने दे बेखुदीमिल यूँ के दौड़ जाएँ, नस नस में बिजलियाँबाहों के दरमियाँ… आसमां को भी ये, हसीं राज है पसंदउलझी उलझी साँसों …

आओ बच्चों तुम्हें दिखाएं झाँकी हिंदुस्तान कीइस मिट्टी से तिलक करो ये धरती है बलिदान कीवंदे मातरम…उत्तर में रखवाली करता पर्वतराज विराट हैदक्षिण में चरणों को धोता सागर का सम्राट हैजमुना जी के तट को देखो गंगा का ये घाट हैबाट-बाट में हाट-हाट में यहाँ निराला ठाठ हैदेखो ये तस्वीरें …

दे दी हमें आज़ादी बिना खड्ग बिना ढालसाबरमती के सन्त तूने कर दिया कमालआँधी में भी जलती रही गाँधी तेरी मशालसाबरमती के सन्त तूने कर दिया कमालदे दी हमें आज़ादी…धरती पे लड़ी तूने अजब ढंग की लड़ाईदागी न कहीं तोप न बंदूक चलाईदुश्मन के किले पर भी न की तूने …

पासे सभी उलट गए दुश्मन की चाल के अक्षर सभी पलट गए भारत के भाल के मंज़िल पे आया मुल्क हर बला को टाल के सदियों के बाद फिर उड़े बादल गुलाल के हम लाए हैं तूफ़ान से कश्ती निकाल के इस देश को रखना मेरे बच्चों सम्भाल के तुम ही भविष्य हो मेरे भारत विशाल …

रंग बरसे भीगे चुनरवाली, रंग बरसेअरे कैने मारी पिचकारी तोरी भीगी अंगियारंग रसिया, रंग रसिया,हो !!रंग बरसे भीगे चुनरवाली, रंग बरसे…सोने की थाली में जोना परोसाखाए गोरी का यार, बलम तरसेरंग बरसे…होली है!लौंगा इलाची का बीड़ा लगायाचाबे गोरी का यार, बलम तरसेरंग बरसे…होली है!अरे बेला चमेली का सेज बिछायासोए गोरी …